HeadlinesUttar Pradesh

कठिन परिश्रम ही सफलता का मार्ग निर्धारित करता है, और लेखाकार आईएएस अधिकारी बन जाता है

यदि जीवन में प्रगति करने की कोई परिभाषा दी जाए तो वह परिभाषा यह होगी कि आप वर्तमान में जहां हैं वहां से कम से कम एक कदम आगे बढ़ें. जी हां, 8 बहनों के इकलौते भाई ने कुछ ऐसा ही किया

कठिन परिश्रम ही सफलता का मार्ग निर्धारित करता है, और लेखाकार आईएएस अधिकारी बन जाता है

यदि जीवन में प्रगति करने की कोई परिभाषा दी जाए तो वह परिभाषा यह होगी कि आप वर्तमान में जहां हैं वहां से कम से कम एक कदम आगे बढ़ें. जी हां, 8 बहनों के इकलौते भाई ने कुछ ऐसा ही किया

हिमांशु शर्मा की रिपोर्ट,सहारनपुर: यदि जीवन में प्रगति करने की कोई परिभाषा दी जाए तो वह परिभाषा यह होगी कि आप वर्तमान में जहां हैं वहां से कम से कम एक कदम आगे बढ़ें. जी हां, 8 बहनों के इकलौते भाई ने कुछ ऐसा ही किया। दरअसल, गोरखपुर सदर तहसील में तैनात 2016 बैच के लेखपाल केदारनाथ शुक्ला ने यूपीएससी में आईएएस की परीक्षा पास की थी. इससे परिवार में खुशी का माहौल है। बता दें कि केदारनाथ शुक्ला को यूपीएससी में वरीयता के क्रम में 465 नंबर मिले हैं।

जानकारी के अनुसार केदारनाथ शुक्ला अपने माता-पिता की 9 संतानों में इकलौता पुत्र है। उनसे बड़ी 8 बहनें हैं। केदारनाथ शुक्ला ने बताया कि वह बेहद साधारण परिवार से हैं। पिता एक आम किसान हैं। काम करते हुए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करना आसान नहीं था। जहां आज सरकारी नौकरियों का अकाल है। छोटे से छोटे पदों पर भर्ती के लिए योग्य उम्मीदवार भी कतार में हैं। उन्होंने कहा कि नवोदय विद्यालय पीपीगंज से प्राथमिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद इग्नू से कला स्नातक, 2016 में लेखपाल की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद सदर तहसील में लेखपाल के पद पर आसीन हुए और देश की सेवा करने की इच्छा रखते हुए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए अपनी पढ़ाई जारी रखी।

और देखे: देखें कौन है सिद्धू मूसा को जान से मारने वाला और क्या लिखा है उसने अपने ट्वीट पर।।

इस वजह से एक दिन उन्होंने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/एसडीएम सदर कुलदीप मीना से इच्छा जाहिर की कि उन्हें आईएएस की तैयारी के लिए छुट्टी चाहिए. इस पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने उन्हें एक साल की छुट्टी दी थी और इसी का नतीजा है कि आज वे आईएएस अफसर बन गए हैं. आपको बता दें कि केदारनाथ शुक्ला ने आईएएस बनकर सीएम शहर गोरखपुर का मान बढ़ाया है। इससे न सिर्फ उनके परिवार वाले खुश हैं बल्कि सदर तहसील के सभी कर्मचारियों का उत्साह भी बढ़ गया है. वहीं लेखपाल केदारनाथ शुक्ला के आईएएस अधिकारी बनने पर समस्त लेखपालों , जिलाधिकारी विजय किरन आनंद, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सदर तहसीलदार वीरेंद्र कुमार गुप्ता, नायब तहसीलदार विकास, लेखपाल दिनेश, पंकज, विनय श्रीवास्तव ने केदारनाथ शुक्ला को बधाई दी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button