HeadlinesJharkhand

हेमंत सोरेन सरकार की घोषना, सोलर पावर प्लांट लगाने पर देगी सब्सिडी

इटखोरी में नवनिर्मित ग्रिड सब स्टेशन एवं चतरा-लातेहार ट्रांसमिशन लाइन के शुभारंभ केदौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में सोलर पावर प्लांट लगाने पर सब्सिडी देने की एक नई योजनालॉन्च करने की घोषना की। सरप्लस बिजली सरकार उचित दाम पर खरीदेगी भी।

झारखण्ड ब्यूरो : शुक्रवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में सोलर पावर प्लांट लगाने पर सब्सिडी देने के लिए एक नई योजना लॉन्चकरने की घोषना की। यह घोषना उन्होंने इटखोरी में नवनिर्मित ग्रिड सब स्टेशन एवं चतरालातेहार ट्रांसमिशन लाइन के शुभारंभ के दौरानकिया। इससे चतरा जिले के बड़े हिस्से को निर्बाध और गुणवत्तायुक्त बिजली मिलेगी।

मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा कि वे अनाज और सब्जी की खेती की तरह बिजली की भी खेती करें। अपनी बंजर भूमि और घर की छत काइस्तेमाल सोलर पावर प्लांट लगाने में करें। इससे ना सिर्फ अपने लिए बिजली का उत्पादन कर सकेंगे, बल्कि सरप्लस बिजली सरकारउचित दाम पर खरीदेगी भी। इससे उनकी आमदनी में इजाफा होगा और वे राज्य के विकास में भागीदार बनेंगे।

भविष्य का विचार है प्रेरणास्त्रोत 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार भविष्य के लिए राज्य को मजबूत बना रही है। चतरा, गढ़वा, लातेहार जैसे पिछड़े जिलों के लिए विशेषयोजना बनाने पर काम कर रही है। जहां बाइपास की जरूरत है वहां इसकी योजना मंजूर की जाएगी। भविष्य की जरूरतों को देखते हुएभी शहरों के लिए बाइपास की योजना बनाई जा रही है। यहां तक की, चतरा शहर के लिए बाइपास की स्वीकृति दे दी गई है। इसकीनींव जनवरी में रखी जाएगी। उन्होंने यहां एक डेयरी प्लांट स्थापित करने की भी बात कही।

औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा देने के लिए उठाए जा रहे कदम

मुख्यमंत्री ने कहा कि चतरा समेत कई जिलों में बड़े पैमाने पर अवैध रूप से अफीम की खेती होती है। इसे रोकने की दिशा में कई कदमउठाए जा रहे हैं। अफीम की बजाय औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। जो भी लोग अफीम की खेती से जुड़े होंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अफीम की खेती को रोकने की दिशा में चतरा जिला प्रशासन द्वारा शुरू किए जा रहेअभियान के पोस्टर की लॉन्चिंग की।

100 योजनाओं का उद्घाटन शिलान्यास

मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों की 100 योजनाओं का उद्घाटन शिलान्यास किया। इन योजनाओं की लागत तकरीबन467.28 करोड़ है।इनमें 275.45 करोड़ की 82 योजनाओं का उद्घाटन और 91.79 करोड़ रुपए की 18 योजनाओं की आधारशिला रखी गई। इस मौके परउन्होंने विभिन्न योजनाओं के लाभुकों के बीच परिसंपत्तियों का वितरण किया। मौके पर मंत्री सत्यानंद भोक्ता, सांसद सुनील कुमार सिंह, विधायक उमा शंकर अकेला, अम्बा प्रसाद और किशुन कुमार दास, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार, प्रमंडलीय आयुक्तकमल जॉन लकड़ा, झारखंड ऊर्जा संचरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के के वर्मा एवं चतरा की उपायुक्त अंजली यादव आदिउपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रिड सब स्टेशन और ट्रांसमिशन लाइन के चालू होने से यहां के लोगों की वर्षों की प्रतिक्षित मांग पूरी हो गई है।उन्होंने कहा कि सरकार पूरे राज्य में ग्रिड सब स्टेशन और संचरण लाइन का जाल बिछा रही है। ईटखोरी, चतरा में नवनिर्मित 220 /132/ 33 केवी ग्रिड की कुल क्षमता 400 मेगावाट है, जबकि 220 केवी चतरालातेहार ट्रांसमिशन लाइन की कुल लंबाई 108 किलोमीटर है।इस परियोजना की कुल लागत 189. 70 करोड़ रुपए है। इस ग्रिड सब स्टेशन और ट्रांसमिशन लाइन के चालू होने से चतरा जिले केइटखोरी, मयूरहंड, सिमरिया, गिद्धौर, हंटरगंज, कान्हाचट्टी, कुंदा, प्रतापपुर, डाढा आदि प्रखंडों और हजारीबाग जिले के बरही अनुमंडलमें बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button