HeadlinesUttar Pradesh

आजादी की पहली चिंगारी 10 मई 1857 को मेरठ से उठी थी , जानिए हुआ क्या था

वर्ष 1857 में वह ऐतिहासिक दिन था 10 मई , जब देश की आजादी की पहली चिंगारी मेरठ से प्रज्वलित हुई थी......

आजादी की पहली चिंगारी 10 मई 1857 को मेरठ से उठी थी , जानिए हुआ क्या था

वर्ष 1857 में वह ऐतिहासिक दिन था 10 मई , जब देश की आजादी की पहली चिंगारी मेरठ से प्रज्वलित हुई थी।

हिमांशु शर्मा की रिपोर्ट, मेरठ: वर्ष 1857 में वह ऐतिहासिक दिन था 10 मई , जब देश की आजादी की पहली चिंगारी मेरठ से प्रज्वलित हुई थी। अंग्रेजों को खदेड़ने के लिए प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नींव सबसे पहले वर्ष 1857 में मेरठ के सदर बाजार में फूटी, जो पूरे देश में फैल गई। यह मेरठ के साथ-साथ पूरे देश के लिए गर्व की बात है। मेरठ का क्रांति स्थल और अन्य धरोहरें आज भी अंग्रेजों के खिलाफ क्रांति धारा से शुरू हुई स्वतंत्रता क्रांति की याद दिलाती हैं। 1857 में शहर में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की क्रांति की चिंगारी उस समय प्रज्वलित हुई जब पूरे देश में अंग्रेजों के खिलाफ लोगों में गुस्सा था। अंग्रेजों को भारत से भगाने की रणनीति तय की गई। पूरे देश में एक साथ अंग्रेजों के खिलाफ बिगुल बजाना था , लेकिन मेरठ में तय तारीख से पहले ही लोगों में अंग्रेजों के खिलाफ गुस्सा फूट पड़ा।

इतिहासकारों के अनुसार और राज्य स्वतंत्रता संग्रहालय में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित अभिलेखों को देखते हुए 10 मई, 1857 को शाम पांच बजे जब चर्च की घंटी बजी तो लोग अपने घरों से बाहर निकल आए और सड़कों पर एकत्र होने लगे। सदर बाजार इलाके से लोगों की भीड़ ने ब्रिटिश सेना पर हमला बोल दिया। 9 मई को कोर्ट मार्शल में चर्बीयुक्त कारतूसों का उपयोग करने से इनकार करने वाले 85 सैनिकों का कोर्ट-मार्शल किया गया। उन्हें बेड़ियों और जंजीरों के साथ विक्टोरिया पार्क की नई जेल में कैद किया गया था। 10 मई की शाम को इस जेल को तोड़कर 85 जवानों को छुड़ाया गया था। कुछ जवान रात में ही दिल्ली पहुंच गए थे और कुछ जवान 11 मई की सुबह दिल्ली के लिए रवाना हुए और दिल्ली पर कब्जा कर लिया था । 23 अप्रैल 1857 को मेरठ छावनी में सैनिकों को बंदूक में चर्बी लगे कारतूस इस्तेमाल करने के लिए दिए गए।

और देखें: Talent Bounce be a part of creativity II Talent Bounce II Talent Show II Promo Release

भारतीय सैनिकों ने इनका इस्तेमाल करने से मना कर दिया। फिर 24 अप्रैल 1857 को एक सामूहिक परेड बुलाई गई और परेड के दौरान 85 भारतीय सैनिकों को इस्तेमाल करने के लिए चर्बी लगे कारतूस दिए, लेकिन सैनिकों ने परेड में भी कारतूस का इस्तेमाल करने से इनकार कर दिया। सैनिकों द्वारा चर्बी वाले कारतूसों का उपयोग करने से इनकार करने के बाद उन सभी का कोर्ट मार्शल किया गया। 6 मई, 7 और 8 मई को कोर्ट मार्शल ट्रायल हुआ, जिसमें 85 सैनिकों को 9 मई को एक सामूहिक कोर्ट मार्शल में सजा सुनाई गई। और विक्टोरिया पार्क को नई जेल में ले जाया गया और बंद कर दिया गया। 10 मई को 85 जवानों को जेल तोड़कर रिहा किया गया था. क्रांति का साक्षी औघड़नाथ मंदिर भी है। काली पलटन के सैनिक वहाँ पीछे के घरों में रहते थे। अधिकांश स्वतंत्रता सेनानी औघड़नाथ मंदिर के पास के मंदिर में आकर रुकते थे। उस समय अंग्रेजों ने मंदिर के पास एक प्रशिक्षण केंद्र भी बनवाया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button