HeadlinesMaharastra

बड़े पैमाने पर आईफोन की तस्करी, DRI ने 42 करोड़ की कीमत के फोन किए जब्त

मुंबई में राजस्व खुफिया निदेशालय यानी की DRI ने आईफोन से जुड़ी बड़ी तस्करी का भंडाफोड़ किया है. DRI ने बिनाटैक्स चुकाए और तस्करी कर भारत ला जाए रहे करोड़ों रुपये के आईफोन को जब्त किया है.

महाराष्ट्र ब्यूरो  : जानकारी के मुताबिक  DRI को खुफिया जानकारी मिली थी की हांगकांग से एयर कार्गो के जरिए बड़ीमात्रा में आईफोन की भारत में तस्करी हो रही है. ऐसे में 26 नवंबर को मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डेपर राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के अधिकारियों ने उतरने वाले माल के दो खेपों की जांच की.

खुफिया जानकारी सच निकली और अधिकारियों ने आईफोन की दो खेप बरामद की जबकि उसके आयात दस्तावेजों मेंमाल को कथित तौर परमेमोरी कार्डके रूप में घोषित किया गया था.

DRI के अधिकारियों ने आईफोन 13 प्रो की 2245 यूनिट, आईफोन 13 प्रो मैक्स की 1401 यूनिट, गूगल पिक्सल 6 प्रोकी 12 यूनिट, और एक एपल स्मार्ट वॉच बरामद किया.  इस तरह से कुल 3,646  आईफोन-13 और उसके अन्य मॉडलको जब्त किया गया .

अधिकारियों ने सीमा शुल्क अधिनियम 1962 के तहत सभी आईफोन और अन्य मोबाइल को जब्त कर लिया. इसकीबाजार में अनुमानित कीमत करीब 42.86 करोड़ रुपये है जबकि आयात दस्तावेज में मेमोरी कार्ड बताकर उसकी कीमतसिर्फ 80 लाख रुपये बताई गई थी.

बता दें कि आईफोन 13 को बीते सितंबर महीने में ही आधिकारिक तौर पर भारत में बिक्री के लिए उपलब्ध कराया गयाथा. आईफोन 13 और उसके अन्य मॉडल की कीमत  70,000 से शुरू होती है और अधिकतम कीमत 1,80,000 रुपयेहैं

भारत में मोबाइल फोन के आयात पर लगभग 44% का प्रभावी सीमा शुल्क लगता है. लेकिन टैक्स बचाने के लिए तस्करआईफोन की तस्करी विदेशों से करके उसे यहां बेचते हैं और उसपर मोटा मुनाफा कमाते हैं.

इतनी बड़ी संख्या में नए और महंगे फोन की तस्करी से यह साफ हो जाता है कि तस्करकितनी जल्दी iPhone 13 जैसे नए उत्पादों  के लिए भी अपनी तस्करी का नेटवर्क खड़ाकर लेते हैं.

हमारी कोशिश है किआपके पास सबसे पहले जानकारी पहुंचे. इसलिए आपसे अनुरोध है कि सभी बड़े अपडेट्सजानने केलिए नीचे दीया गया लिंक के लाइक फॉलो और सब्सक्राइब कर लें.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, और हमें Twitter और YouTube पर फॉलोकरें)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button