HeadlinesJharkhand

आदिवासियों के हक के लिए लड़ी थी लड़ाई, 25 साल से भी कम रहा सफर

15 नवंबर 1875 को बृहस्पतिवार के दिन शुभना मुंडा के घर में एक किलकारी गूंजी चूंकि बृहस्पतिवार को बिरसावारकहा जाता है इसीलिए बच्चे का नाम रखा गया बिरसा. आज जिस पुण्य आत्मा के तेज ने पूरे देश में जन जातीय गौरवदिवस की आलौकिक छठा बिखेरी है, उस हुतात्मा का नाम है भगवान बिरसा मुंडा.

झारखंड ब्यूरो : आज पूरा देश इनकी जयंती हर्षोल्लास से मना रहा है. भगवान बिरसा मुंडा, जिन्होंने अपने जीवन के 25 वर्ष भी पूरे नहीं किए और इस देश की अखंडता, इसकी गौरवशाली संस्कृति, जनजातीय परंपरा, रीतिरिवाजों के संरक्षणके लिए स्वयं के सर्वस्व जीवन को राष्ट्राय स्वाहा कर दिया

एक सामान्य गरीब परिवार में जन्म लेकर, अभावों के बीच रहकर भी किसी का भगवान हो जाना कोई सामान्य बात नहीं हैऔर ना ही सामान्य था वो दुर्लभ संयोग. जिसमें भगवान बिरसा ने एक सामान्य जनजातीय बालक से भगवान तक की इसमानसिक शारीरिक यातनाओं से भरी इस यात्रा को पूर्ण किया. वैसे देखा जाए तो इंसान के भगवान बनने की जो प्रक्रियाहै, वो हमारी संस्कृति में सदियों से एक शाश्वत प्रवाह के साथ बहती हुई आयी है, जिसमें कई दिव्य आत्माओं ने अपनाजीवन वंचितों के लिए, अभावग्रस्त लोगों के लिए, धर्म के लिए, संस्कृति के लिए जिया. इसमें भगवान राम, श्रीकृष्ण, भगवान महावीर, भगवान बुद्ध और गुरु नानक देव समेत कई नाम शामिल हैं. इन्होंने धर्म की रक्षार्थ, राष्ट्र और संस्कृति कीरक्षार्थ अपने प्राण तक देने में संकोच नहीं किया. भगवान बिरसा मुंडा भी इसी पथ के अनुगामी थे. आइये आज भगवानबिरसा मुंडा की जयंती पर जानते है उनके जीवन के कुछ कालखंडों को

साल था 1875 का. 1850 में योजनाबद्ध तरीके से ईसाई मिशनरी का काम जो बहुत तेजी से चलना प्रारंभ हुआ था. अबवह अपने चरम पर था और अपनी यातनाओं और कड़े कानूनों के बूते तेजी से वे जनजातीय क्षेत्रों में धर्मान्तरण करते जारहे थे. इन्हीं सब परिस्थितियों में 1875 में कुलिहातु गांव (उस समय में रांची जिला था, वर्तमान में ऊटी जिला) में 15 नवंबर 1875 को बृहस्पतिवार के दिन शुभना मुंडा के घर में एक किलकारी गूंजी चूंकि बृहस्पतिवार को बिरसावार कहाजाता है. इसीलिए बच्चे का नाम रखा गया बिरसा

बाल्याव्स्था से ही तेजस्वी बिरसा सबके लिए आकर्षण का केंद्र थे. बालक बिरसा की प्राथमिक शिक्षा लूथेरियन मिशन केविद्यालय हुई, जिसके बाद माध्यमिक शिक्षा के लिए जायबासा के एक जर्मन मिशन के होस्टल में दाखिल कराया गया. जहां वे एक जर्मन मिशन के स्कूल में पढ़े. जिसे ईसाई मिशनरी संचालित करते थे. चूंकि अंग्रेजी सरकार में दबाव के चलतेबालक बिरसा के मातापिता को भी ईसाई धर्म स्वीकार करना पड़ा था. इसके चलते उन्हें भी ईसाई धर्म स्वीकारना पड़ा

जब बालक बिरसा 12-13 वर्ष  की आयु में थे और माध्यमिक शिक्षा ग्रहण कर रहे थे. उसी दौरान वह देखते थे कि स्कूलके जो प्राध्यापक और पादरी है, जो ईसाई समाज के धर्म प्रचारक है. वह मुंडानी परंपरा, सनातन धर्म और जनजतीयपरंपरा और प्रथाओं की लगातार आलोचना करते थे. उनका मजाक उड़ाते थे. जनजतीय समाज के आदिवासी लोगों कोवह जाहिल कहते. उनकी परम्पराओं को गंवार परंपरा कहते. उनको विज्ञान से दूर कहते थे, उनको अशिक्षित पिछड़ाकहते थे. ये सारी चीजें बालक बिरसा के मन पर आघात करती थी और धीरेधीरे उनके मन में से इनका जवाब निकलनाशुरू हुआ.

इन्हीं परिस्थितियों के बीच में मिशनरियों के कुकृत्यों के विरोध में मुंडानी सरदारों को विरोध भी उत्कर्ष पर था. जिसकासीधा क्रांतिकारी प्रभाव बिरसा पर पड़ रहा था. उन्होंने प्रत्यक्ष देखा कि ये विदेशी गोरे और ईसाई मिशनरी उनकी जोजनजतीय मुंडानी परंपराएं है. इन्हें पूर्णतः समाप्त करने के लिए षड्यंत्र किए जा रहे हैं. उन्हें ईसाई धर्म में ले जाकर धीरेधीरे सामाजिक, धार्मिक, नैतिक और मानसिक रूप से हमारा परिवर्तन करना चाहते है. इस षड्यंत्र को बालक बिरसा नेमहज 14-15 वर्ष की आयु रही होगी, जब पहचाना और इसका प्रतिरोध करना प्रारंभ किया. जिसके बदले में उन्हें वहां केजर्मन विद्यालय के हॉस्टल से उनको निकाल दिया गया

साल 1890 में 15 वर्ष की आयु में धर्म रक्षार्थ अपनी शिक्षा छोड़ने के बाद बालक बिरसा ने समग्र विचारों को विस्तार सेसमझने का संकल्प किया. इसके बाद आने वाले 5 साल (1890-95 तक) बालक बिरसा ने धर्म, नीति, दर्शन, वनवासीरीति रिवाज, मुंडानी परंपराओं का गहराई से अध्ययन किया. इसके साथ ही ईसाई धर्म और ब्रिटिश सरकार की नीतियोंका भी गहराई से अध्ययन किया. इसके बाद उसके सार रूप में उन्होंने कहा – “साहबसाहब टोपी एक!” अपनी 20 वर्षकी आयु होतेहोते 1895 तक वह पूरी तरह से ईसाई मिशनरी के षड्यंत्र को समझ गए थे. इसके बाद उन्होंने हिंदूपरम्पराओं, भारतीय सनातन परम्पराओं का अध्ययन किया.

हिंदू धर्म ग्रंथों के गहन अध्ययन के बाद भगवान बिरसा मुंडा ने ईसाई धर्म को पूर्णतः त्याग करके अपने सनातन हिंदू धर्मको, अपने वनवासीय संस्कृति को आगे बढ़ाने का निर्णय किया.अगले कुछ ही सालों में वह जनजतीय क्षेत्र में एकधर्मोपदेशक के रूप में विख्यात हो गए. जिसके कारण ब्रिटिश सरकार और ईसाई मिशनरियों की आंखों में वह औरज्यादा खटकने लगे. समय के साथसाथ बाबा बिरसा मुंडा के अनुयायियों के तादाद में वृद्धि होती गई. साल 1886-1887 आतेआते बड़ी संख्या में ऐसे वनवासीय लोग जिन्होंने 1850-1885 तक विभिन्न यातनाओं के चलते जबरियाईसाई धर्म अपनाया थे वे भी अब भगवान बिरसा मुंडा के अनुयायी बनकर हिंदू धर्म में दीक्षित होने लगे

अपनी 20-22 वर्ष की अल्प आयु में मुंडानी, जनजतीय परंपरा के पथप्रदर्शक सनातन धर्मोपदेश के रूप में विख्यात होचुके भगवान बिरसा मुंडा ने धर्म के साथ आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति का भी अध्ययन किया था. इसके चलते साल 1899 मेंपड़े अकाल के दौरान फैले चेचक महामारी के प्रकोप से जनजतीय बंधुओं की रक्षा की. उस समय भीषण महामारी के बीचलोगों में विश्वास हो चला कि चेचक जैसी बीमारी में भी बाबा बिरसा मुंडा के छू लेने भर से ही उनकी बताई कुछ दवाइयोंभर से ही हम ठीक हो जाते हैइसलिए धीरेधीरे जनमानस में उनके भगवान होने या एक अवतारी पुरुष होने का स्वरूपविस्तारित होता चला गया

ब्रिटिश आततायियों और ईसाई मिशनरियों की यातनाओं को सहते हुए साल 1900 के आते हुए जनजतीय क्षेत्रों के लोगोंकी हिम्मत जवाब दे गई. 8 जनवरी 1900 का जब डोम्बारी की पहाड़ी पर भगवान बिरसा मुंडा ने ब्रिटिश साम्राज्य ईसाई मिशनरियों के खिलाफ उलगुलान (सम्पूर्ण क्रांति) की घोषणा कर दी. डोम्बारी की पहाड़ी पर अपने हजारोंअनुयायियों के साथ एकत्रित होने की खबर ब्रिटिश सरकार के कानों तक पहुंच चुकी थी. नतीजतन डोम्बारी की पहाड़ी परभगवान बिरसा मुंडा और उनके अनुयायियों को घेर लिया गया. भीषण नरसंहार शुरू हुआ. गोरे सिपाहियों ने गोद में दुधमुंहेबच्चे को लिए आयी माताओं तक को नहीं छोड़ा. इतिहास के पन्नों पर इस भीषण नरसंहार को अंग्रेजी हुकूमत के इसमेंबताए मौत के आंकड़ों (251मौत) की तरह एकदम छोटा सा बना दिया गया, लेकिन हकीकत तो ये है कि हजारों निहत्थेजनजतीय बच्चों, युवाओं, माताओंबहनों और वृद्धजनों ने अपनी संस्कृति, परम्पराओं और रीति रिवाजों के संरक्षण केलिए अपने प्राणों का बलिदान इस नरसंहार में कर दिया था.

डोम्बारी की पहाड़ियों पर हुई उलगुलान की घोषणा के बाद जब भगवान बिरसा मुंडा को उनके हजारों अनुयायियों के साथब्रिटिश सेना ने चारों ओर से घेरकर उद्घोषणा की– ‘आप अभी भी अंग्रेजों की, ब्रिटेन सरकार की परतंत्रता को स्वीकारकरते हैं. अगर आप अभी भी ईसाई मिशनरियों के साथ मिलकर ईसाई धर्म को स्वीकार करते हैं, तो आपको छोड़ दियाजायेगा.’ उसके जवाब में बाबा बिरसा और उनकी अनुयायियों की ओर से कहा गया–  ‘गोरे अंग्रेजों वापस अपने देश चलेजाओ, हमारा स्थान छोड़ करके चले जाओ.’ ये बाबा बिरसा का नारा था. जिसे बाद मेंअंग्रेजों भारत छोड़ो‘  के रूप मेंगांधी ने 1940 दशक में दोहराया.

डोम्बारी की पहाड़ियों से ब्रिटिश सेना की गोलियों के बीच से भगवान बिरसा मुंडा सकुशल निकल गए. इसके बाद उनकीतलाश में उनके अनुयायियों के ऊपर अंग्रेजों ने यातनाओं की पराकाष्ठा कर दी. अंग्रेजी हुकूमत ने बाबा बिरसा पर 500 रुपये का नगद कई दूसरे प्रलोभन उन्हें पकड़वाने में बतौर इनाम देने की घोषणा की. परिणामस्वरूप रात्रि विश्राम केसमय उनकी कुटिया को घेर करके 3 फरवरी 1900 को भगवान बिरसा मुंडा को गिरफ्तार कर लिया गया. भगवान बिरसासमेत उनके 842 साथियों पर मामले में कड़ी कार्यवाही हुई. इसमें बाबा बिरसा के कई साथियों को फांसी पर चढ़ा दियागया.

अंग्रेजी सरकार भगवान बिरसा मुंडा को किसी भी हालत में जीवित नहीं रखना चाहती . लिहाजा फरवरी से ही जेल में उनपर यातनाओं का दौर चला. षड्यंत्र पूर्वक उन्हें धीमा जहर दिया जाने लगा. 20 मई 1900 से जेल में बाबा बिरसा से जेलमें मिलने से सभी को रोक दिया गया और उनके स्वास्थ्य की खबरें भी आना बंद हो गईं. अचानक 1 जून को अंदर के कुछमाध्यमों से ये खबर आयी कि बाबा बिरसा की तबीयत बहुत ज्यादा खराब है. चूंकि उनको लगातार धीमा जहर दिया जारहा था. अचानक 9 जून को ब्रिटिश सरकार के जेल में लगातार उनको दिए गए धीमे जहर के परिमाण स्वरूप उनकी मृत्युहो गई.

ब्रिटिश सरकार ने घोषणा करते हुए बताया कि बाबा भगवान बिरसा मुंडा अब अपना शरीर त्याग चुके हैं. वो आज ही कादिन था 9 जून 1900. बाबा बिरसा बलिदान देकर और मातृभूमि, अपने वनवासियों के स्वाभिमान, संस्कृति और राष्ट्र कीस्वतंत्रता की अलख जगाते हुए अपना सर्वस्व न्योछावर कर गए. आज के परिपेक्ष्य में भगवान बिरसा मुंडा के विचारों कोजीवित रखते हुए जनजतीय संस्कृति, परम्पराओं और रीति रिवाजों को संरक्षित करते हुए, वनवासीय बंधुओं को ईसाईमिशनरियों से सुरक्षित रखना ही भारत माता के इस सच्चे सपूत के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी

हमारी कोशिश है किआपके पास सबसे पहले जानकारी पहुंचे. इसलिए आपसे अनुरोध है कि सभी बड़े अपडेट्सजानने केलिए नीचे दीया गया लिंक के लाइक फॉलो और सब्सक्राइब कर लें.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, और हमें Twitter और YouTube पर फॉलोकरें)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: