BiharHeadlines

आज भी स्कूल में बच्चों को बैठने के लिए नही है डेक्स बेंच

विद्यालय में डेक्स बेंच के लिए लिखित रूप से शिक्षा पदाधिकारी को दिया गया है लेकिन अभी तक विद्यालय में डेक्स बेंचनही उपलब्ध हो पाया है।

अजीत कु.सिंह , पू.चम्पारण : सरकार शिक्षा पर करोड़ो रूपये खर्च कर रही है,फिर भी अगर विद्यालय में बच्चों को बैठनेके लिए डेक्स बेंच नही हो और विद्यालय में प्राथना करने के लिए जगह नही हो तो इस्से ज्यादा शर्म की बात बिहार सरकारके लिए नही हो सकती।यह मामला सुगौली प्रखण्ड अंतर्गत उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय मुसवा का है,जहाँ विद्यालय केपास जमीन पर्याप्त है,लेकिन विद्यालय का ही चार कट्ठा जमीन वहा के कुछ दबंगो के द्वारा कब्जा कर लिया गया है।दुर्भाग्य कहे या अधिकारियों की लापरवाही,इस बात की जानकारी लिखित रूप से विद्यालय के प्रधानध्यापक के द्वारा बड़ेअधिकारियों को 2019 में ही दिया गया है लेकिन अभी तक उन दबंगो का ही कब्जा बरकरार है।जिसके वजह से आजविद्यालय में प्राथना करने का जगह नहीं है।

वही सरकार शिक्षा पर तो खर्च कर रही हैं लेकिन आज भी इस विद्यालय में बच्चों को बैठने के लिए डेक्स बेंच की व्यवस्थानही है, जिसके वजह से बच्चे खुद घर से बोरा लेकर आते हैं और जमीन पर बैठते हैं।आपको बताते चले कि इस विद्यालयमें करीब ग्यारह सौ बच्चे बच्चियां पढ़ती है। एक वर्ग से लेकर दस वर्ग की पढ़ाई इस विद्यालय में होती हैं।वहीप्रधानाध्यापक मनोज ठाकुर का कहना है कि यह विद्यालय बाढ़ ग्रसित क्षेत्र में पड़ता है,बाढ़ के दिनों में विद्यालय में बाढ़का पानी भी भर जाता है जिसके चलते सभी बच्चों शिक्षकों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता हैं।

विद्यालय में डेक्स बेंच के लिए लिखित रूप से शिक्षा पदाधिकारी को दिया गया है लेकिन अभी तक विद्यालय में डेक्स बेंचनही उपलब्ध हो पाया है।विद्यालय का ही चार कट्ठा जमीन स्थानीय लोगों के कब्जा में है इसकी भी जानकारी प्रशासन कोहै लेकिन प्रशासन अधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही नही किया जाता हैं।

हमारी कोशिश है किआपके पास सबसे पहले जानकारी पहुंचे. इसलिए आपसे अनुरोध है कि सभी बड़े अपडेट्सजानने केलिए नीचे दीया गया लिंक के लाइक फॉलो और सब्सक्राइब कर लें.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, और हमें Twitter और YouTube पर फॉलोकरें)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: