HeadlinesHealthUttar Pradesh

लखनऊ के बच्चों का ब्लड प्रेशर कौन बढ़ा रहा है? KGMU सर्वे में 15 स्कूलों से सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

ब्लड प्रेशर की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है। लखनऊ के करीब 15 स्कूलों में पांच फीसदी बच्चे ब्लड प्रेशर के शिकार हैं.

लखनऊ के बच्चों का ब्लड प्रेशर कौन बढ़ा रहा है? KGMU सर्वे में 15 स्कूलों से सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

ब्लड प्रेशर की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है। लखनऊ के करीब 15 स्कूलों में पांच फीसदी बच्चे ब्लड प्रेशर के शिकार हैं.

हिमांशु शर्मा की रिपोर्ट,लखनऊ: ब्लड प्रेशर की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है। लखनऊ के करीब 15 स्कूलों में पांच फीसदी बच्चे ब्लड प्रेशर के शिकार हैं. केजीएमयू के फिजियोलॉजी विभाग द्वारा कराए गए सर्वे में ये चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। शहर के 15 स्कूलों में कराए गए सर्वे में 5000 बच्चों का ब्लड प्रेशर चेक किया गया. इनकी उम्र 12 से 20 साल के बीच थी। इसमें कॉल्विन तालुकेदार, हुसैनाबाद कॉलेज, पायनियर, इंदिरानगर, पुराने लखनऊ के कुछ स्कूल शामिल हैं। फिजियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. नरसिंह वर्मा ने बताया कि करीब पांच फीसदी बच्चों में रक्तचाप असामान्य पाया गया.

चार महीने पहले शुरू हुआ था सर्वे

डॉ. नरसिंह वर्मा ने कहा कि डॉ. वंदना के सहयोग से करीब चार माह से सर्वे का काम चल रहा है. इसमें स्कूलों में कैंप लगाकर लगातार ब्लड प्रेशर की जांच की जा रही है. हैरानी की बात यह है कि बच्चों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई। इससे पहले इन बच्चों ने कभी अपना ब्लड प्रेशर चेक भी नहीं करवाया था।

और देखें: साइक्लोन “असानी” का असर देखने को मिलेगा आंध्र प्रदेश सहित पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर।।

पढ़ाई और परिवार की जिद है बड़ी वजह

बच्चों में ब्लड प्रेशर का कारण माता-पिता की जिद और तनाव हो सकता है। माता-पिता अपने बच्चों पर लगातार पढ़ाई का दबाव डालते हैं। डॉक्टर-इंजीनियर बनने के विचार बच्चों पर थोपते हैं। इससे बच्चे भी तनाव की चपेट में आ रहे हैं। जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए। डॉ. नरसिंह वर्मा ने बताया कि बच्चे का रुझान जिस तरफ हो उसी तरफ जाने देना चाहिए . अपने विचार थोपने से बचें। इससे बच्चों पर अधिक दबाव पड़ता है।

नियमित बीपी जांच कराएं

नरसिंह वर्मा ने बताया कि बच्चों को अपनी जीवनशैली में सुधार करने की सलाह दी गई है। नियमित व्यायाम और 2 से 3 किलोमीटर पैदल चलने को कहा गया है। साथ ही हर सुबह उठने के बाद ब्लड प्रेशर चेक करने की भी सलाह दी गई है। इसके बावजूद अगर ब्लड प्रेशर कंट्रोल में नहीं है। इसलिए डॉक्टर की सलाह पर ही इलाज करें।

दुबले-पतले बच्चे भी प्रभावित

अभी तक मोटे लोगों में ब्लड प्रेशर की समस्या ज्यादा देखने को मिल रही थी। अब दुबले-पतले लोग भी ब्लड प्रेशर को अपना शिकार बना रहे हैं. डॉ. नरसिंह वर्मा ने बताया कि स्कूल में ऐसे सभी बच्चे ब्लड प्रेशर की चपेट में पाए गए जो दुबले-पतले हैं. फास्ट फूड भी कम खाया जाता है। इसके बावजूद वे ब्लड प्रेशर की चपेट में आ रहे हैं।

चार तरह की बीमारियों का बढ़ा खतरा

ब्लड प्रेशर बढ़ने से चार तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। डॉ. नरसिंह वर्मा के अनुसार ब्रेन स्ट्रोक की समस्या गंभीर हो जाती है. हृदय सहित शरीर के अन्य भागों में रक्त ले जाने वाली नसों में रुकावट से संबंधित समस्याएं भी विकसित हो सकती हैं। गुर्दे की गंभीर बीमारी हो सकती है। हार्ट फेल होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button