BiharHeadlines

बिहार में एमएलसी चुनाव हुआ नहीं कि शुरू महागठबंधन

एनडीए के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन की गांठें समय समय पर ढीली पड़ती जा रही है। हालिया में उदाहरण बिहार का है जहां एमएलसी के 24 सदस्यों का चुनाव होने वाला है

बिहार में एमएलसी चुनाव हुआ नहीं कि शुरू महागठबंधन

प्रीति कुमारी की रिपोर्ट लखनऊ: एनडीए के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन की गांठें समय समय पर ढीली पड़ती जा रही है। हालिया में उदाहरण बिहार का है जहां एमएलसी के 24 सदस्यों का चुनाव होने वाला है , राष्ट्रीय जनता दल यानी कि आरजेडी और लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास एलजेपी रामविलास गठबंधन की संभावनाओं पर विचार कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस अभी तक इससे दूरी बनाए हुए हैं और कई कांग्रेसी नेता इन चुनाव में पार्टी के अकेले उतरने की वकालत भी कर रहे हैं। हालांकि हालिया उपचुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था वही पार्टी ने एलजेपी रामविलास के साथ बातचीत में शामिल होने से भी साफ इनकार कर दिया है। इसी के साथ ही कांग्रेस ने आरजेडी और एलजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की संभावनाओं को भी विराम दे दिया है, ऐसे में महागठबंधन का रास्ता कुछ आसान नजर नहीं आ रहा है।

जानिए आरजेडी का सीट शेयरिंग फार्मूला

बता दे आरजेडी ने इस चुनाव को देखते हुए सीट बंटवारे का फार्मूला भी तैयार कर लिया था, इसके मुताबिक आरजेडी 15, कांग्रेस 5, एलजेपी रामविलास के लिए तीन और एक सीट लेफ्ट के लिए छोड़ी गई थी, कुछ दिन पहले ही एलजेपी रामविलास की पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक हुई थी इसमें एमएलसी चुनाव के लिए गठबंधन पर काफी जोर दिया गया था, हालांकि बोर्ड आखिरी फैसला पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के ऊपर छोड़ रखा था। एलजेपी रामविलास के प्रवक्ता अशरफ अंसारी ने बताया कि यह फैसला चिराग को करना है उन्हें यह तय करना है कि पार्टी आरजेडी के साथ गठबंधन करेगी या फिर एनडीए के साथ जाएगी, उन्होंने कहा कि 28 नवंबर तक इस बारे में फैसला लिया जा सकता है।

कांग्रेस में गठबंधन पर एकमत नहीं

विधानसभा के लिए हुए हालिया उपचुनाव और इससे पहले हुए विधानसभा चुनाव में एलजेपी रामविलास का प्रदर्शन पहले ही काफी खराब रहा है, इसका नतीजा यह है कि आज की तारीख में पार्टी के पास अब कोई भी विधायक नहीं है। वहीं कांग्रेस में एलजेपी के साथ गठबंधन को लेकर एकमत नहीं है। बिहार में कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि गठबंधन को लेकर क्या बातचीत चल रही है मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है, उन्होंने कहा कि इस तरह के बड़े फैसले पार्टी हाईकमान द्वारा ही लिए जाते हैं। वहीं कांग्रेस एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्र ने कहा कि पहली बात तो यह है कि किसी तरह का कोई ऑफर आया ही नहीं है दूसरी बात कि लालू प्रसाद नहीं तय करेंगे कि कांग्रेस किसके साथ गठबंधन करेंगे और किसके साथ नहीं। उन्होंने आगे कहा कि हमारे बिहार प्रभारी भक्त चरणदास से किसी ने संपर्क नहीं किया है मिश्रा ने यह भी कहा कि अगर गठबंधन करना है तो चेहरा को कांग्रेस से सीधे तौर पर बात करनी चाहिए।

हालांकि कांग्रेस के कई नेता बिहार में पार्टी की स्वतंत्र पहचान स्थापित करने के पक्ष में लगे हुए हैं कांग्रेस प्रवक्ता आनंद माधव ने कहा कि लोकसभा चुनाव में अभी भी 3 साल बाकी है हमारे पास प्रदेश में पार्टी को पुनर्स्थापित करने के लिए काफी समय है इसलिए हमें अकेले ही चुनाव लड़ना चाहिए। एक अन्य कांग्रेस नेता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि जो लोग आरजेडी के गठबंधन की बात कर रहे हैं वह अपने स्वार्थ वश ऐसा कर रहे हैं यह लोग अपने करीबियों को आरजेडी की मदद से एमएलसी बनाना चाहते हैं ।वही ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के महासचिव तारिक अनवर ने हाल ही में पटना में एक प्रेस कांफ्रेंस में यह बात कही थी,और उन्होंने प्रदेश में गठबंधन की मजबूती पर जोर देते हुए कहा कि उपचुनाव से हमें यह सबक सीखने को मिला है कि हमें बिहार में अपने संगठन को मजबूत बनाने की जरूरत है ।बता दे आगामी लोकसभा चुनाव के लिए बचे अगले ढाई साल के दौरान हम यही करने जा रहे हैं अनवर ने यह भी कहा कि पूरी तरह से शीर्ष नेतृत्व पर निर्भर करता है की आरजेडी के साथ गठबंधन होगा या नहीं वही देश भर के राजनीति की स्थिति को देखते हुए समय आने पर गठबंधन को लेकर फैसला लिया जाएगा।

राय कॉन्बिनेशन की तलाश में लेफ्ट

वहीं बिहार में 2020 के विधानसभा चुनाव में वाम दलों का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था वामदलों को यहां पर कुल 16 सीटें मिली थी अब वामदल नए गठबंधन की संभावनाओं की तलाश में जुटे हुए हैं ।सीपीआई एमएल स्टेट सेक्रेटरी कुणाल ने कहा है कि भाजपा के खिलाफ किसी भी गठबंधन का स्वागत है जितनी ज्यादा पार्टियों की संख्या होगी उतना ही ज्यादा हम मजबूत होंगे उन्होंने कहा कि हालांकि सबसे पहले चिराग को एनडीए को लेकर अपना स्टैंड स्पष्ट करना होगा एक बार चीजें स्पष्ट हो जाए फिर हम सीटों के बंटवारे पर कुछ प्रक्रिया दे सकेंगे, इसी के आगे कुमार ने कहा कि महागठबंधन को लेकर कांग्रेस और आरजेडी की आपसी लड़ाई ठीक नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button